तहसील हर्रैया के कर्मचारिओ पर लगातार लग रहे रिश्वत लेने का आरोप नहीं ले रहा थम्हने का नाम

बस्ती जिले की हर्रैया तहसील में पूर्व कार्यरत इंचार्ज कानूनगो महेंद्र उपाध्याय का जो इस समय भानपुर तहसील में है कार्यरत

जिले की तहसीलों में कानूनगो लेखपालों पर लगातार जमीनी मामलो को निपटाने के लिए घूस लेने का सिलसिला जारी

अधिकारिओ की छत्र छाया में फल फूल रहा भरस्टाचार जिम्मेदारो ने साधी चुप्पी

मामला बस्ती जिले की हर्रैया तहसील के पूरे अवधी गांव का

पीड़िता रानी देबी ने बताया कि पूर्व इंचार्ज कानूनगो ने हमारे घर पर आकर कहा कि तुम्हारा घर बंजर में बना है मै इसको आबादी दर्ज करवाकर तुम्हारे नाम करवा दूँगा इसमें पचास हजार खर्चा आयेगा

मुझको गुमराह करके मकान को आबादी दर्ज करने के नाम पर वर्ष 2014 में दो बार में लिया पचास हजार रुपया

मकान आबादी दर्ज न होने पर मैने दिया हुआ रुपया पचास हजार माँगा

पूर्व इंचार्ज कानूनगो महेंद्र उपाध्याय ने हर्रैया तहसील से अपना ट्रांसफर भानपुर तहसील में करवाया

रानी देबी ने बया की मन की पीड़ा कहा मैने कई बार प्रार्थना पत्र दिया नहीं हुई कोई सुनवाई

पीड़िता के पति की तबियत नाजुक इलाज के लिए नहीं पैसा , मकान आबादी दर्ज न होने से दिए हुए रूपये की मांग के लिए कई बार महेंद्र उपाध्याय के घर पर जाकर गिड़गिड़ाया

पीड़िता रानी देवी व हर्रैया तहसील के पूर्व इंचार्ज कानूनगो महेन्द्र उपाध्याय के बातचीत का आडिओ साछय के रूप में मौजूद

अभी आने वाले समय में हर्रैया तहसील के पूर्व इंचार्ज कानूनगो व भानपुर तहसील में कार्यरत महेन्द्र उपाध्याय के काले कारनामो की और खुलेगी पोल