5 वर्ष की उम्र से अभिषेक अपने हाथों से मिट्टी को गढ़कर देवताओं की प्रतिमा को दे रहा स्वरूप

कोरबा(पाली):- कला एक ऐसा ज्ञान है जो किसी उम्र की मोहताज नही होती।ना ही इसमें कोई बंधन सीमा होता है।बस उसे सीखने का लगन मन में होना चाहिए।जिस 5 वर्ष की आयु में बच्चे उछलकूद में व्यक्त रहते है।उसी बालपन में अभिषेक अपने हाथों से मिटटी को गढ़ना प्रारंभ किया।और तब से आज तक उसी मिट्टी से विभिन्न देवताओं की प्रतिमा गढ़ उसे रूप प्रदान करते आ रहा है।

पाली नगर पंचायत के वार्ड क्रमांक-03 का निवासी अभिषेक प्रजापति महज 5 वर्ष की उम्र से ही विभिन्न देवी-देवताओं की प्रतिमा को गढ़कर उन्हें आकार देता आ रहा है।10 वी तक की पढ़ाई कर स्कूल छोड़ चुके 22 वर्षीय अभिषेक के साथ उसकी माँ व एक छोटा भाई है।भाई के पढ़ाई लिखाई के साथ सभी के पेट पालने की जिम्मेदारी भी अभिषेक के कंधों पर ही है।आज गणेश चतुर्थी है।और आज से 10 दिन तक हर गली मोहल्लों में गणपति बप्पा की धूम रहेगी।हर भक्तों के पास विघ्नहर्ता की प्रतिमा पहुँच सके इसके लिए अभिषेक ने छोटे बड़े सहित विभिन्न मुद्राओं में गणेश जी की प्रतिमा तैयार किया है।अपने घर पर एक गणेश प्रतिमा को आकृति दे रहे अभिषेक को देखकर सहसा मेरा वाहन पर ब्रेक लग गया और जिज्ञासावश उसके पास जाकर उसके हुनर के बारे पर जब जानने का प्रयास किया तब अभिषेक ने बताया कि उसके नाना स्वर्गीय पुनाराम प्रजापति मूर्ति बनाने का काम किया करते थे।जिसे देखकर मुझमे भी मूर्ति बनाने की ललक बढ़ी और 5 वर्ष की उम्र से नाना के साथ मिलकर मूर्ति बनाने का काम प्रारंभ किया।साथ ही पढ़ाई भी जारी रखा।लेकिन आर्थिक स्थिति ठीक ना होने के कारण 10 वी के बाद स्कूल जाना बंद हो गया और पढ़ाई छूट गई।इस प्रकार आज लगभग 15 वर्ष से गणेश,दुर्गा,विश्वकर्मा सहित अन्य देवी-देवताओं की छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी प्रतिमा तैयार कर बेचने का काम करता हूँ।साथ ही अन्य भी काम करके घर का खर्च चला रहा हूँ।कहने को तो आज के परिवेश में 20 से 22 वर्ष की उम्र में अधिकतर युवावर्ग काम करने की शुरुआत करते है।लेकिन अभिषेक द्वारा इसी उम्र में घर चलाने का पहिया अपने हाथों थामकर रखना प्रेरणादायी है।अभिषेक द्वारा बनाए गए मूर्तियों को लोग काफी पसंद करते है।जिसके कारण इसके हाथों की बनाई गई मूर्तियों की मांग भी ज्यादा रहती है।गणेशोत्सव समाप्त होने पश्चात विश्वकर्मा जयंती जिसके बाद नवरात्रि का पर्व प्रारंभ होने को है।ऐसे में अभिषेक गणेश के बाद अब विश्वकर्मा और दुर्गा प्रतिमा बनाने में जुट जाएगा।